Hindi shayari


Hindi shayari




Kuchh bhi nhi bacha kahne ko
har baat ho gayi

Kuchh bhi nhi bacha kahne ko
har baat ho gayi

Aao Kahin Sharaab Peeyen
Ab to raat ho gayi.


माना इश्क जबरदस्ती से नहीं होता,
लेकिन ये कमबख्त होता जबरदस्त है...😥💔


बिन दिल के जज्बात अधूरे,
बिन धड़कन अहसास अधूरे।

बिन साँसों के ख्वाब अधूरे,
बिन तेरे हम कब हैं पूरे।



ये ना सोच कि तुझसे

मोहब्बत की गुज़ारिश करेंगे हम


हम तो एकतरफ़ा मोहब्बत भी

कमाल की करते हैं।


हमें शायर समझ के यूं

नजर अंदाज न करिये,


नजर हम फेर ले तो तेरी

चाहतों का बाजार गिर जायेगा.

जो तरीक़ा दुनिया का है
उसी तौर से बोलो...

बहरों का इलाक़ा है
ज़रा ज़ोर से बोलो....!!


Mil Gaya Hoga
Use Koi Aur Warna,


Mera Yaar Yu Badlne
Wala Na tha.... 💔🙂


आज आइना कहता हैं
कहना तो नहीं चाहिए था,

तू अभी भी ज़िंदा है,
रहना तो  नहीं चाहिए था!



जब सोच मे मोच आती है
 तब हर रिश्ते में खरोच आती है।🌹


Duniya vula ke tujhe yaad rakhta hu

Tu nai hoti fir tujhe pass pata hu

Vagwan ki to nai pata per

Vagwan se phle tujhe yaad krta hum



ज़िन्दगी याह चाहती हैं की खुदख़ुशी कर लूं

और में  एक हादसे कि उम्मीद में बैठा हूं


बेचैनी जब भी बढ़ती है तो धुंए में उड़ा देता हूँ

और लोग कहते हैं मैं सिगरेट का आदि हूं



Apne dil ki baat hum unse keh

nahi sakte

Bin Kahe Bhi Jee Nahi Sakte


Ae Khuda Aisi Takdeer Bana
 Wo Humse Khud Aakar

Kahe Hum Aapke Bina Reh Nahi Sakte.

Mere dil me kyi dard hain bewafa ke diye hue

main har dard ko kaagaz pe utaar dunga

mujhse bewafai karne wale ko pehle hi pata tha

shayar hu sirf shabdo se hi jawab dunga

Jo log ye bolte hai na ki😊


Mein tumhe roota hua nahi dekh sakta🥺

Sach bolu sabsa zyada wahi log rulata ha🖤💔


कोनसा दिल कोनसे लफ़्ज़ कोनसी आग
ओर कोनसा तीर
हम तो एसे बहते है इस ज़िंदगी में
जैसे हों कोई नदियाँ का नीर।


तेरे लिए मेरा प्यार इन हवाओं की तरह हो गया है।
दिखता नहीं है पर महेसूस जरूर होता है।



अजीब खबर है साहब सुनोगे क्या..
मोहब्बत का हकीम मोहब्बत से मर गया.
फिर एक बार पड़ेंगे इश्क़ में जाना,

भरोसा ही उठा है ..जनाज़ा नहीं....!
मांगने  पर  जहां  पूरी  हर  मन्नत  होती  है,
मां  के  पैरों  में  ही  तो  वो  जन्नत  होती  है...

जब  भी  देखता  हुं
हसते  खिलखिलाते  चेह्ररे  लोगों  के ,

दुआ  करता  हुं
इन्हे  कभी  मोहब्बत  ना  हो.....😥💔


मेरी जिंदगी ने एक दिन सवाल मुझसे से पूछा ,
तुम मुझसे प्यार करती हो या उससे प्यार करती हो।

मैंने कहा तुमने ही तो मुझको उससे मिलवाया था ,
ओर तुम ही गैरों जैसे सवाल करती हो।।



हक़ीक़त को तलाश करना पड़ता है...
अफवाहें तो घर बैठे आप तक पहुँच जाती है...


सुनो....
मुस्कुरा देती हो... मेरी हर बात पर …
सुनती भी हो या... इश्क हो गया है ...


क्या खूब कहा है किसी भी ने:-
मैं तो एक पल भी माँ के बिना नही रह सकता,

ना जाने मेरी बहनें;
पूरा परिवार छोड़ जाने का हुनर कहाँ से लाती है।

मांगते थे दुआ जिनके लिए
आज वो मेरी मौत की दुआ मांग के क़र्ज़ अदा करने आये हैं

Post a comment

0 Comments